गीता उपदेश

                                                        &nbs

आजका गीता ज्ञान

                                                        &nbs

आज का गीता अमृत

                                                     नैव

गीता का उपदेश

श्रेष्ठ मनुष्य जैसा आचरण करता है, दूसरे लोग भी वैसा ही आचरण करते हैं। वह जो प्

गीता का उपदेश

जो मनुष्य सब कामनाओं को त्यागकर, इच्छा रहित, ममता रहित तथा अहंकार रहित होकर व

गीता उपदेश

जो कुछ भी तू करता है, उसे भगवान को अर्पण करता चल। ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का

गीता उपदेश

क्रोध से सम्मोहन और अविवेक उत्पन्न होता है, सम्मोहन से मन भृष्ट हो जाता है। म

क्रांति राम की

संघ का लोकतंत्र  उड़ीसा में एक शहर है बरहमपुर। वहां कम्युनिस्टों का अच्छ

गीता का उपदेश

शांति से सभी दुखों का अंत हो जाता है और शांतचित मनुष्य की बुद्धि शीघ्र ही स्थ

गीता उपदेश

विषयों का चिंतन करने से विषयों की आसक्ति होती है। आसक्ति से इच्छा उत्पन्न हो

copyright © 2017 All Right Reserved.
Design & Develop by - itinfoclub