गीता के श्लोक

Home / गीता के श्लोक
no-img

written by : सारथी

on: 14-03-2018-11:10:02

                                                                       कर्मणैव हि संसिद्धिमास्थिता जनकादयः ।
                                                                       लोकसंग्रहमेवापि सम्पश्यन्कर्तुमर्हसि ॥


भावार्थ :
जनकादि ज्ञानीजन भी आसक्ति रहित कर्मद्वारा ही परम सिद्धि को प्राप्त हुए थे, इसलिए तथा लोकसंग्रह को देखते हुए भी तू कर्म करने के ही योग्य है अर्थात तुझे कर्म करना ही उचित है॥

no coimments

copyright © 2017 All Right Reserved.
Design & Develop by - itinfoclub