गीता के श्लोक

Home / गीता के श्लोक
no-img

written by : सारथी

on: 05-03-2018-11:17:01

                                                           यदि उत्सीदेयुरिमे लोका न कुर्यां कर्म चेदहम्‌ ।
                                                           संकरस्य च कर्ता स्यामुपहन्यामिमाः प्रजाः ॥


भावार्थ :
इसलिए यदि मैं कर्म न करूँ तो ये सब मनुष्य नष्ट-भ्रष्ट हो जाएँ और मैं संकरता का करने वाला होऊँ तथा इस समस्त प्रजा को नष्ट करने वाला बनूँ॥

no coimments

copyright © 2017 All Right Reserved.
Design & Develop by - itinfoclub