गीता के श्लोक

Home / गीता के श्लोक
no-img

written by : सारथी

on: 04-03-2018-10:26:14

                                                    न मे पार्थास्ति कर्तव्यं त्रिषु लोकेषु किंचन ।
                                                     नानवाप्तमवाप्तव्यं वर्त एव च कर्मणि ॥


भावार्थ :
हे अर्जुन! मुझे इन तीनों लोकों में न तो कुछ कर्तव्य है और न कोई भी प्राप्त करने योग्य वस्तु अप्राप्त है, तो भी मैं कर्म में ही बरतता हूँ॥

no coimments

copyright © 2017 All Right Reserved.
Design & Develop by - itinfoclub