गीता के श्लोक

Home / गीता के श्लोक
no-img

written by : सारथी

on: 03-03-2018-10:52:58

                                                                                 नैव तस्य कृतेनार्थो नाकृतेनेह कश्चन ।
                                                                                न चास्य सर्वभूतेषु कश्चिदर्थव्यपाश्रयः ॥


भावार्थ :
उस महापुरुष का इस विश्व में न तो कर्म करने से कोई प्रयोजन रहता है और न कर्मों के न करने से ही कोई प्रयोजन रहता है तथा सम्पूर्ण प्राणियों में भी इसका किञ्चिन्मात्र भी स्वार्थ का संबंध नहीं रहता॥

no coimments

copyright © 2017 All Right Reserved.
Design & Develop by - itinfoclub