गीता अमृत

Home / गीता अमृत

गीता उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

आज का गीता उपदेश

शमो दमस्तपः शौचं क्षान्तिरार्जवमेव च। ज्ञानं विज्ञानमास्तिक्यं ब्रह्मकर्म स्वभावजम्‌ ॥

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

आजका गीताज्ञान

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

आजका गीता ज्ञान

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

आज का गीता उपदेश

मुक्तसङ्‍गोऽनहंवादी धृत्युत्साहसमन्वितः । सिद्धयसिद्धयोर्निर्विकारः कर्ता सात्त्विक उच्

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

आज का गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

अधिष्ठानं तथा कर्ता करणं च पृथग्विधम्‌ । विविधाश्च पृथक्चेष्टा दैवं चैवात्र पञ्चमम्‌ ॥ भा

आज का गीताज्ञान

                                                                       

आज का गीता उपदेश

देवान्भावयतानेन ते देवा भावयन्तु वः । परस्परं भावयन्तः श्रेयः परमवाप्स्यथ ॥ भावार्थ : तुम

आजका गीता उपदेश

सहजं कर्म कौन्तेय सदोषमपि न त्यजेत्‌। सर्वारम्भा हि दोषेण धूमेनाग्निरिवावृताः॥ भावार्थ :

आज का गीता उपदेश

श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात्‌। स्वभावनियतं कर्म कुर्वन्नाप्नोति किल्ब

आजका गीताज्ञान

                                                                       

आज का गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

आजा का गीता उपदेस

                                                                       

आज का गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

आज का गीता अमृतम

                                                                       

आज का गीता अमृत

                                                                 बुद्ध्

गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

हतो वा प्राप्यसि स्वर्गम्, जित्वा वा भोक्ष्यसे महिम्। तस्मात् उत्तिष्ठ कौन्तेय युद्धाय कृतन

आज का गीता उपदेश

यद्यदाचरति श्रेष्ठस्तत्तदेवेतरो जनः। स यत्प्रमाणं कुरुते लोकस्तदनुवर्तते॥ भावार्थ – श्

आज का गीता उपदेश

                                                                       

आजका गीता ज्ञान

                                                                   न बुद

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

                                                                       

आज का गीता उपदेश

तस्मादसक्तः सततं कार्यं कर्म समाचर । असक्तो ह्याचरन्कर्म परमाप्नोति पुरुषः ॥ भावार्थ : इसल

आज का गीता उपदेश

यं ब्रह्मा वरुणेन्द्ररुद्रमरुत: स्तुन्वन्ति दिव्यै: स्तवै र्वेदै: साङ्गपदक्रमोपनिषदैर्गाय

आज का गीता ज्ञान

                                                                       

गीता उपदेश

शान्ताकारं भुजगशयनं पद्यनाभं सुरेशं विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्णं शुभाङ्गम्। लक्ष्मीकान्त

गीता उपदेश

शान्ताकारं भुजगशयनं पद्यनाभं सुरेशं विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्णं शुभाङ्गम्। लक्ष्मीकान्त

आज का गीता उपदेश

व्यक्ति को आत्म मंथन करना चाहिए। आत्म ज्ञान की तलवार से व्यक्ति अपने अंदर के अज्ञान को काट सकता

आज का गीता उपदेश

काम, क्रोध और लोभ, ये जीव को नरक की ओर ले जाने वाले तीन द्वार हैं, इसलिये इन तीनों का त्याग करना चाह

आज का गीता उपदेश

यदि कोई बड़े से बड़ा दुराचारी भी अनन्य भक्ति भाव से मुझे मजता है, तो उसे भी साधु ही मानना चाहिए और

आज का गीता उपदेश

सभी प्राणी मेरे लिए बराबर हैं, न मेरा कोई अप्रिय है और न प्रिय, परन्तु जो श्रद्धा और प्रेम से मेरी

गीता उपदेश

हे अर्जुन, तुम सदा मेरा स्मरण करो और अपना कर्तव्य करो। इस तरह मुझ में अर्पण किये मन और बुद्धि से य

गीता उपदेश

हे अर्जुन, जैसे प्रज्वलित अग्नि लकड़ी को जला देती है, वैसे ही ज्ञानरूपी अग्नि कर्म के सारे बंधनो

आज का गीता उपदेश

सभी प्राणी मेरे लिए बराबर हैं, न मेरा कोई अप्रिय है और न प्रिय, परन्तु जो श्रद्धा और प्रेम से मेरी

आज का गीता उपदेश

जो आशा रहित है, जिसके मन और इन्द्रियां वश में हैं, जिसने सब प्रकार के स्वामित्व का परित्याग कर दि

आज का गीता उपदेश

जैसे जल में तैरती नाव को तूफान उसे अपने लक्ष्य से दूर ले जाता है, वैसे ही इन्द्रिय सुख मनुष्य को ग

गीता उपदेश

                                                                    अनिष

आज का गीता उपदेश

हे अर्जुन, मेरे जन्म और कर्म दिव्य हैं, इसे जो मनुष्य भली भांति जान लेता है, उसका मरने के बाद पुनर

आज का गीता अमृतम

                                                                       

आज का गीता उपदेश

हे अर्जुन, जब संसार में धर्म हानि और अधर्म की वृद्धि होती है, तब-तब अच्छे लोगों की रक्षा, दुष्टों

आज का गीता उपदेश

न हि देहभृता शक्यं त्यक्तुं कर्माण्यशेषतः । यस्तु कर्मफलत्यागी स त्यागीत्यभिधीयते ॥ भावा

आज का गीता उपदेश

न द्वेष्ट्यकुशलं कर्म कुशले नानुषज्जते । त्यागी सत्त्वसमाविष्टो मेधावी छिन्नसंशयः ॥ भावा

आज का गीता उपदेश

कार्यमित्येव यत्कर्म नियतं क्रियतेअर्जुन । सङ्‍गं त्यक्त्वा फलं चैव स त्यागः सात्त्विको मतः

गीता का उपदेश

दुःखमित्येव यत्कर्म कायक्लेशभयात्त्यजेत्‌ । स कृत्वा राजसं त्यागं नैव त्यागफलं लभेत्‌ ॥

आज का गीता उपदेश

यज्ञदानतपःकर्म न त्याज्यं कार्यमेव तत्‌ । यज्ञो दानं तपश्चैव पावनानि मनीषिणाम्‌ ॥ भावार्

आज का गीता उपदेश

कार्यमित्येव यत्कर्म नियतं क्रियतेअर्जुन । सङ्‍गं त्यक्त्वा फलं चैव स त्यागः सात्त्विको मतः

आजका गीता अमृतम

                                                                       

आजका गीता अमृतम

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

5 जुलाई का पंचांंग

दिनांक - 5 जुलाई 2018, दिन - गुरुवार, विक्रम संवत - 2075, अयन - दक्षिणायण, ऋतु - वर्षा, मास - आषाढ़, पक्ष - कृष्ण

गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

गीता का उपदेश

                                                                       

आज का गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

                                                                       

आजका गीता श्लोक

                                                                    निश्

आजका गीता श्लोक

                                                               त्याज्यं

16 जून का पंचांग

दिनांक - 16 जून 2018, दिन - शनिवार, विक्रम संवत - 2075, अयन - उत्तरायण, ऋतु - ग्रीष्म, मास - ज्येष्ठ, पक्ष - शुक्ल

आज का गीताज्ञान

                                                       यदि ह्यहं न वर्तेयं ज

आज का गीताज्ञान

                                                               नियतस्य त

गीता उपदेश

                                                            एतान्यपि तु कर

गीता का उपदेश

                                                                   कार्

गीता उपदेश

                                                                      य

आजका गीता ज्ञान

                                                                       

आज का गीता अमृत

                                                     नैव तस्य कृतेनार्थो ना

गीता का उपदेश

श्रेष्ठ मनुष्य जैसा आचरण करता है, दूसरे लोग भी वैसा ही आचरण करते हैं। वह जो प्रमाण देता है, जनसमु

गीता का उपदेश

जो मनुष्य सब कामनाओं को त्यागकर, इच्छा रहित, ममता रहित तथा अहंकार रहित होकर विचरण करता है, वही शा

गीता उपदेश

जो कुछ भी तू करता है, उसे भगवान को अर्पण करता चल। ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का आनंद अनुभव करेगा।

गीता उपदेश

क्रोध से सम्मोहन और अविवेक उत्पन्न होता है, सम्मोहन से मन भृष्ट हो जाता है। मन नष्ट होने पर बुद्

क्रांति राम की

संघ का लोकतंत्र  उड़ीसा में एक शहर है बरहमपुर। वहां कम्युनिस्टों का अच्छा गढ़ था। मैं जब वही

गीता का उपदेश

शांति से सभी दुखों का अंत हो जाता है और शांतचित मनुष्य की बुद्धि शीघ्र ही स्थिर होकर परमात्मा से

गीता उपदेश

विषयों का चिंतन करने से विषयों की आसक्ति होती है। आसक्ति से इच्छा उत्पन्न होती है और इच्छा से क्

गीता उपदेश

दुख से जिसका मन परेशान नहीं होता, सुख की जिसको आकांक्षा नहीं होती तथा जिसके मन में राग, भय और क्रो

गीता का उपदेश

केवल कर्म करना ही मनुष्य के वश में है, कर्मफल नहीं। इसलिये तुम कर्मफल की आशक्ति में ना फंसो तथा अ

गीता उपदेश

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

गीता उपदेश

खाली हाथ आये और खाली हाथ वापस चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इ

गीता उपदेश

सुख-दुख, लाभ-हानि और जीत-हार की चिंता ना करके मनुष्य को अपनी शक्ति के अनुसार कर्तव्य कर्म करना चा

गीता का उपदेश

युद्ध में मरकर तुम स्वर्ग जाओगे या विजयी होकर पृथ्वी का राज्य भोगोगे, इसलिये हे कौन्तैय, तुम युद

गीता का ज्ञान

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप

गीता का उपदेश

हे अर्जुन! सभी प्राणी जन्म से पहले अप्रकट थे और मृत्यु के बाद फिर अप्रकट हो जायेंगे। केवल जन्म औ

गीता का उपदेश

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता का उपदेश

जन्म लेने वाले की मृत्यु निश्चित है और मरने वाले का जन्म निश्चित है। अतः जो अटल है उसके लिए तुम्

गीता का उपदेश

कोई भी शस्त्र आत्मा को काट नहीं सकता, अग्नि जला नहीं सकती, जल गीला नहीं कर सकता और वायु सुखा नहीं

गीता का उपदेश

जैसे मनुष्य अपने पुराने वस्त्रों को उतारकर दूसरे नए वस्त्र धारण करता है, वैसे ही जीव मृत्यु के ब

गीता का उपदेश

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित कर दो। यही सबसे उत्तम सहारा है जो इसके को जानता है वह भय, चिन्ता, शो

गीता का ज्ञान

आत्मा अजर अमर है। जो लोग इस आत्मा को मारने वाला या मरने वाला मानते हैं, वे दोनों ही नासमझ हैं आत्म

गीता के श्लोक

श्रीकृष्ण कहते हैं कि न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से म

गीता का उपदेश

श्रीकृष्ण कहते हैं, जैसे इसी जन्म में जीवात्मा बाल, युवा और वृद्ध शरीर को प्राप्त करती है। वैसे

गीता का उपदेश

हे अर्जुन, तुम ज्ञानियों की तरह बात करते हो, लेकिन जिनके लिए शोक नहीं करना चाहिए, उनके लिए शोक करत

आज का गीता ज्ञान

हे अर्जुन, विषम परिस्थितियों में कायरता को प्राप्त करना, श्रेष्ठ मनुष्यों के आचरण के विपरीत है

आज का गीता श्लोक

न मे पार्थास्ति कर्तव्यं त्रिषु लोकेषु किंचन। नानवाप्तमवाप्तव्यं वर्त एव च कर्मणि।। भावा

आज का गीता श्लोक

अनाश्रित: कर्मफलम कार्यम कर्म करोति य:। स: संन्यासी च योगी न निरग्निर्ना चाक्रिया:।। भावार्थ

आज का गीता ज्ञान

प्रकृतिम स्वामवष्टभ्य विसृजामि पुन: पुन:। भूतग्राममिमं कृत्स्नमवशम प्रकृतेर्वशात॥ भावार

आज का गीता श्लोक

अजो अपि सन्नव्यायात्मा भूतानामिश्वरोमपि सन। प्रकृतिं स्वामधिष्ठाय संभवाम्यात्ममायया॥ भ

आज का गीता ज्ञान

बहूनि में व्यतीतानि जन्मानि तव चार्जुन। तान्यहं वेद सर्वाणि न त्वं वेत्थ परंतप॥ अर्थ – श्र

आज का गीता श्लोक

हतो वा प्राप्यसि स्वर्गम्, जित्वा वा भोक्ष्यसे महिम्। तस्मात् उत्तिष्ठ कौन्तेय युद्धाय कृतन

आज का गीता ज्ञान

ध्यायतो विषयान्पुंसः सङ्गस्तेषूपजायते। सङ्गात्संजायते कामः कामात्क्रोधोऽभिजायते॥ भाव

आज का गीता श्लोक

न हि कश्चित्क्षणमपि जातु तिष्ठत्यकर्मकृत्‌। कार्यते ह्यवशः कर्म सर्वः प्रकृतिजैर्गुणैः॥

आज का गीताज्ञान

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

आज का गीता ज्ञान

यद्यदाचरति श्रेष्ठस्तत्तदेवेतरो जनः। स यत्प्रमाणं कुरुते लोकस्तदनुवर्तते॥ भावार्थ – श्

आज का गीता श्लोक

क्रोधाद्भवति संमोहः संमोहात्स्मृतिविभ्रमः। स्मृतिभ्रंशाद्बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश

आज का गीता श्लोक

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत:। अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्॥ भावार्थ

आज का गीता ज्ञान

तपाम्यहमहं वर्षं निगृह्‌णाम्युत्सृजामि च। अमृतं चैव मृत्युश्च सदसच्चाहमर्जुन॥ भावार्थ

आज का गीता ज्ञान

गतिर्भर्ता प्रभुः साक्षी निवासः शरणं सुहृत्‌ । प्रभवः प्रलयः स्थानं निधानं बीजमव्ययम्‌॥

आज का गीताज्ञान

जैसे इसी जन्म में जीवात्मा बाल, युवा और वृद्ध शरीर को प्राप्त करती है। वैसे ही जीवात्मा मरने के

आज का गीता श्लोक

पिताहमस्य जगतो माता धाता पितामहः। वेद्यं पवित्रमोङ्कार ऋक्साम यजुरेव च।। भावार्थ – श्री क

आज का गीता ज्ञान

श्रुतिविप्रतिपन्ना ते यदा स्थास्यति निश्र्चला। समाधावचला बुद्धिस्तदा योगमवाप्स्यसि।। भ

आज का गीता श्लोक

कर्मजं बुद्धियुक्ता हि फलं त्यक्त्वा मनीषिणः। जन्मबन्धविनिर्मुक्ताः पदं गच्छन्त्यनामयम्।

आज का गीता ज्ञान

दुरेण ह्यवरं कर्म बुद्धियोगाद्धञ्जय बुद्धौ शरणमन्विच्छ कृपणाः फलहेतवः। भावार्थ – श्री कृ

आज का गीता ज्ञान

योगस्थः कुरु कर्माणि सङ्गं त्यक्त्वा धनञ्जय। सिद्धयसिद्धयोः समो भूत्वा समत्वं योग उच्यते।।

आज का गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

                                                                   पृथक

गीता के श्लोक

                                                                  दुःखमि

गीता अमृत

                                                                      न

गीता के श्लोक

                                                          यस्त्वात्मरतिरे

गीता अमृत

                                                                 न द्वेष

गीता के श्लोक

                                                               सिद्धिं प

गीता श्लोक

देवान्भावयतानेन ते देवा भावयन्तु वः । परस्परं भावयन्तः श्रेयः परमवाप्स्यथ ॥ भावार्थ : तुम

गीता के श्लोक

                                                                  पञ्चैत

गीता अमृत

                                                                     न

गीता के श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

                                                              त्याज्यं दो

गीता के श्लोक

                                                                    दुःख

गीता के श्लोक

                                                                  निश्चय

गीता अमृत

                                                          न मे पार्थास्ति क

गीता के श्लोक

                                                 तस्मादसक्तः सततं कार्यं कर्

गीता अमृत

हे अर्जुन! सभी प्राणी जन्म से पहले अप्रकट थे और मृत्यु के बाद फिर अप्रकट हो जायेंगे। केवल जन्म औ

गीता के श्लोक

                                                                       

गीता के श्लोक

                                                              न मे पार्थास

आज का गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

                                                            न मे पार्थास्त

गीता अमृत

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्त

गीता के श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

हे अर्जुन विषम परिस्थितियों में कायरता को प्राप्त करना, श्रेष्ठ मनुष्यों के आचरण के विपरीत है।

गीता के श्लोक

                                                           यदि उत्सीदेयुर

गीता के श्लोक

                                                    न मे पार्थास्ति कर्तव्यं

गीता के श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

जैसे मनुष्य अपने पुराने वस्त्रों को उतारकर दूसरे नए वस्त्र धारण करता है, वैसे ही जीव मृत्यु के ब

गीता अमृत

                                                                   धूमे

आज का गीता ज्ञान

                                                                 एवं बुद

गीता के श्लोक

                                                                    कर्म

गीता के श्लोक

                                                         न मे पार्थास्ति कर

गीता ज्ञान

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्त

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                              अथ केन प्रयु

गीता अमृत

                                                               कर्मणैव ह

गीता अमृत

                                                                  कर्मणै

गीता श्लोक

                                                               तस्मादसक्

गीता ज्ञान

भक्त्या मामभिजानाति यावान्यश्चास्मि तत्त्वतः। ततो मां तत्त्वतो ज्ञात्वा विशते तदनन्तरम्‌॥

गीता अमृत

                                                                       

गीता श्लोक

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चा

गीता अमृत

                                                        यस्त्वात्मरतिरेव स

गीता श्लोक

                                                                    काम

गीता अमृत

गीता में लिखा है क्रोध से भ्रम पैदा होता हैं, भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है। जब बुद्धि व्यग्र हो

गीता श्लोक

                                                            सदृशं चेष्टते

गीता ज्ञान

दिवि सूर्यसहस्रस्य भवेद्युगपदुत्थिता। यदि भाः सदृशी सा स्याद्भासस्तस्य महात्मनः॥ भावार

गीता श्लोक

                                                                  इष्टान

गीता श्लोक

                                                 एवं बुद्धेः परं बुद्धवा संस्

गीता ज्ञान

दिवि सूर्यसहस्रस्य भवेद्युगपदुत्थिता। यदि भाः सदृशी सा स्याद्भासस्तस्य महात्मनः॥ भावार

गीता अमृत

                                                                   न मे

गीता ज्ञान

परित्राणाय साधूनाम् विनाशाय च दुष्कृताम्। धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे-युगे॥ भावार

गीता श्लोक

                                                                   दुःख

गीता श्लोक

                                                              कर्मणैव हि स

गीता अमृत

आत्मा अजर अमर है। जो लोग इस आत्मा को मारने वाला या मरने वाला मानते हैं, वे दोनों ही नासमझ हैं आत्म

गीता श्लोक

                                                        मयि सर्वाणि कर्माणि

गीता ज्ञान

श्रद्धावान्ल्लभते ज्ञानं तत्पर: संयतेन्द्रिय:। ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति॥

गीता अमृत

                                                            यदि उत्सीदेयुर

गीता ज्ञान

भक्त्या मामभिजानाति यावान्यश्चास्मि तत्त्वतः। ततो मां तत्त्वतो ज्ञात्वा विशते तदनन्तरम्‌॥

गीता अमृत

                                                              न मे पार्थास

गीता अमृत

                                                         यदि उत्सीदेयुरिम

गीता श्लोक

                                                              कर्मणैव हि स

गीता अमृत

                                                           यद्यदाचरति श्र

गीता श्लोक

                                                             अन्नाद्भवन्

गीता अमृत

                                                            इष्टान्भोगान्

गीता ज्ञान

श्रद्धावान्ल्लभते ज्ञानं तत्पर: संयतेन्द्रिय:। ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति॥

गीता श्लोक

                                                              देवान्भावयत

18 जनवरी का पंचांग

दिनांक - 18 जनवरी 2018, दिन - गुरुवार, विक्रम संवत - 2074, अयन - उत्तरायण, ऋतु - शिशिर, मास - माघ, पक्ष - शुक्ल पक

गीता अमृत

धूमेनाव्रियते वह्निर्यथादर्शो मलेन च। यथोल्बेनावृतो गर्भस्तथा तेनेदमावृतम्‌ ॥ भावार्थ :

गीता श्लोक

प्रकृतेः क्रियमाणानि गुणैः कर्माणि सर्वशः । अहंकारविमूढात्मा कर्ताहमिति मन्यते ॥ भावार्

गीता श्लोक

                                                        कर्मणैव हि संसिद्धि

गीता श्लोक

                                              यस्त्वात्मरतिरेव स्यादात्मतृप्

गीता श्लोक

इन्द्रियाणि मनो बुद्धिरस्याधिष्ठानमुच्यते । एतैर्विमोहयत्येष ज्ञानमावृत्य देहिनम्‌ ॥ भ

गीता श्लोक

                                            ये त्वेतदभ्यसूयन्तो नानुतिष्ठन्ति

गीता अमृत

आत्मा अजर अमर है। जो लोग इस आत्मा को मारने वाला या मरने वाला मानते हैं, वे दोनों ही नासमझ हैं आत्म

गीता श्लोक

                                                                      क

गीता ज्ञान

यदि ह्यहं न वर्तेयं जातु कर्मण्यतन्द्रितः । मम वर्त्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः ॥

गीता श्लोक

                                                      न मे पार्थास्ति कर्तव्

गीता श्लोक

तत्त्ववित्तु महाबाहो गुणकर्मविभागयोः । गुणा गुणेषु वर्तन्त इति मत्वा न सज्जते ॥ भावार्थ : पर

गीता श्लोक

                                                           प्रकृतेः क्रिय

गीता अमृत

                                                            यदि ह्यहं न वर्

गीता श्लोक

                                                            एवं प्रवर्तितं

गीता अमृत

                                                 यदि ह्यहं न वर्तेयं जातु कर्

1 जनवरी का पंचांग

दिनांक - 1 जनवरी 2018, दिन - सोमवार, विक्रम संवत - 2074, अयन - दक्षिणायन, ऋतु - शिशिर, मास - पौष, पक्ष - शुक्ल पक्

गीता श्लोक

                                                                  ये त्वे

गीता अमृत

अतीत में जो कुछ भी हुआ, वह अच्छे के लिए हुआ, जो कुछ हो रहा है, अच्छा हो रहा है, जो भविष्य में होगा, अच

गीता अमृत

                                                   यदि उत्सीदेयुरिमे लोका न

गीता श्लोक

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन। मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि॥ भावार्

गीता श्लोक

                                                    सक्ताः कर्मण्यविद्वांसो

गीता श्लोक

                                                         यदि ह्यहं न वर्तेय

गीता अमृत

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चा

गीता श्लोक

                                                           एतान्यपि तु कर्

गीता अमृत

                                                            एवं बुद्धेः पर

गीता अमृत

                                                    यस्त्वात्मरतिरेव स्यादा

गीता श्लोक

                                                            यदि ह्यहं न वर्

गीता श्लोक

                                                              यदि उत्सीदे

गीता सार

विहाय कामान् य: कर्वान्पुमांश्चरति निस्पृह:। निर्ममो निरहंकार स शांतिमधिगच्छति।। भावार्

गीता श्लोक

                                                  यदि ह्यहं न वर्तेयं जातु कर्

गीता श्लोक

                                                 तस्मात्त्वमिन्द्रियाण्याद

गीता ज्ञान

अंतकाले च मामेव स्मरन्मुक्त्वा कलेवरम्‌ ।  यः प्रयाति स मद्भावं याति नास्त्यत्र संशयः ॥ भ

गीता श्लोक

                                                                यज्ञशिष्

गीता अमृत

                                                                       

गीता श्लोक

                                                            नैव तस्य कृतेन

गीता अमृत

                                                              तस्मादसक्तः

गीता अमृत

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                          यदि ह्यहं न वर्त

गीता श्लोक

                                                               तस्मादसक्

गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

                                                                   भक्त

गीता अमृत

                                                              तस्मात्त्वम

गीता अमृत

                                                                 एतान्य

गीता श्लोक

                                                                    स्वे

गीता श्लोक

                                                              नष्टो मोहः स

गीता के श्लोक

                                                       यदि ह्यहं न वर्तेयं ज

गीता अमृत

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता श्लोक

                                                                  निश्चय

गीता के श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

                                                                       

गीता अमृत

                                                            इन्द्रियाणि पर

गीता श्लोक

                                                                       

आजा का गीता ज्ञान

                                                                  भक्त्य

गीता अमृत

                                                                न मे पार्थ

गीता अमृत

                                                                       

गीता अमृत

दिवि सूर्यसहस्रस्य भवेद्युगपदुत्थिता। यदि भाः सदृशी सा स्याद्भासस्तस्य महात्मनः॥ यदि आक

गीता के श्लोक

अलसस्य कुतो विद्या, अविद्यस्य कुतो धनम् |  अधनस्य कुतो मित्रम्, अमित्रस्य कुतः सुखम् || अर्था

गीता अमृत

हतो वा प्राप्यसि स्वर्गम्, जित्वा वा भोक्ष्यसे महिम्। तस्मात् उत्तिष्ठ कौन्तेय युद्धाय कृतन

गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

गीता के श्लोक

श्रद्धावान्ल्लभते ज्ञानं तत्पर: संयतेन्द्रिय:। ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति॥

गीता अमृत

                                                                      न

गीता के श्लोक

सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज। अहं त्वां सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुच:॥ इस श

गीता अमृत

क्रोध से भ्रम पैदा होता है. भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है. जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट ह

गीता अमृत

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता के श्लोक

शरीरम्, यत्, अवाप्नोति, यत्, च, अपि, उत्क्रामति, ईश्वरः, गृृहीत्वा, एतानि, संयाति, वायुः, गन्धान्, इ

गीता के श्लोक

                                                               न मे पार्थ

गीता अमृत

खुद का आकलन - 'आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो. अनुशासित रह

गीता अमृत

गुस्से पर काबू - 'क्रोध से भ्रम पैदा होता है. भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है. जब बुद्धि व्यग्र होती

गीता अमृत

न, रूपम्, अस्य, इह, तथा, उपलभ्यते, न, अन्तः, न, च, आदिः, न, च, सम्प्रतिष्ठा, अश्वत्थम्, एनम्, सुविरूढमूल

गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

क्रोधाद्भवति संमोह: संमोहात्स्मृतिविभ्रम:। स्मृतिभ्रंशाद्बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्य

गीता अमृत

परित्राणाय साधूनाम् विनाशाय च दुष्कृताम्। धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे-युगे॥ (चतुर्थ अ

गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चा

गीता श्लोक

                                                                     ता

आज का गीता श्लोक

                                                                यदि उत्सी

गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

ऊध्र्वमूलम्, अधःशाखम्, अश्वत्थम्, प्राहुः, अव्ययम्, छन्दांसि, यस्य, पर्णानि, यः, तम्, वेद, सः, वेदव

गीता अमृत

निर्मानमोहाः, जितसंगदोषाः, अध्यात्मनित्याः, विनिवृत्तकामाः, द्वन्द्वैः, विमुक्ताः, सुखदुःखस

आज का गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

श्रद्धावान्ल्लभते ज्ञानं तत्पर: संयतेन्द्रिय:। ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति॥

गीता श्लोक

                                                                     सि

आज का पंचांग

दिनांक - 9 अक्टूबर 2017, दिन -सोमवार, विक्रम संवत - 2074, अयन - दक्षिणायन, ऋतु - शरद, मास - कार्तिक, पक्ष - कृष्

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता श्लोक

                                                                      न

गीता श्लोक

                                                             यदि उत्सीदेय

गीता अमृत

आज जो कुछ आप का है, पहले किसी और का था और भविष्य में किसी और का हो जाएगा। परिवर्तन संसार का नियम है

गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता श्लोक

                                                                काम एष क्र

आज का गीता श्लोक

                                                                   निश्

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                      क

गीता अमृत

खाली हाथ आए और खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपन

गीता के श्लोक

निर्मानमोहाः, जितसंगदोषाः, अध्यात्मनित्याः, विनिवृत्तकामाः, द्वन्द्वैः, विमुक्ताः, सुखदुःखस

आज का गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता श्लोक

                                                               इन्द्रिया

गीता के श्लोक

हतो वा प्राप्यसि स्वर्गम्, जित्वा वा भोक्ष्यसे महिम्। तस्मात् उत्तिष्ठ कौन्तेय युद्धाय कृत

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                       

गीता अमृत

क्रोधाद्भवति संमोह: संमोहात्स्मृतिविभ्रम:। स्मृतिभ्रंशाद्बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्य

गीता श्लोक

                                                                       

गीता के श्लोक

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन। मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि॥ (द्वितीय

गीता अमृत

न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम इस शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से बना है और इसी में मिल

गीता अमृत

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

आज का गीता ज्ञान

                                                                      क

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता श्लोक

                                                                     नि

आज का गीता ज्ञान

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चा

गीता श्लोक

                                                                    इदं

आजा का गीता ज्ञान

जो कुछ भी तू करता है, उसे भगवान को अर्पण करता चल। ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का आनंन्द अनुभव करेगा

आज का गीता ज्ञान

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्

आज का गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

खाली हाथ आए और खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपन

आज का गीता ज्ञान

"खाली हाथ आए और खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। इसीलिए, जो

आज का गीता ज्ञान

खाली हाथ आए और खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपन

आज का गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चा

आज का गीता ज्ञान

केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो। जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिं

आज का गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

जो कुछ भी तू करता है, उसे भगवान के अर्पण करता चल। ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का आनंद अनुभव करेगा।

गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

आज का गीता ज्ञान

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो। जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिं

गीता श्लोक

                                                                       

आज का गीता ज्ञान

जैसे मनुष्य अपने पुराने वस्त्रों को उतारकर दूसरे नए वस्त्र धारण करता है, वैसे ही जीव मृत्यु के ब

गीता श्लोक

                                                                       

गीता ज्ञान

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

गीता श्लोक

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                      य

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता श्लोक

                                                                काम्याना

गीता श्लोक

                                                                       

गीता ज्ञान

गीता में लिखा है क्रोध से भ्रम पैदा होता है, भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है। जब बुद्धि व्यग्र होत

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता ज्ञान

न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, अाकाश से बना है अौर इसी में मिल ज

गीता ज्ञान

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्

गीता ज्ञान

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता ज्ञान

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता ज्ञान

खाली हाथ आए और खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपन

गीता ज्ञान

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता ज्ञान

खुद का आकलन - 'आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो. अनुशासित रह

गीता श्लोक

नैनं छिद्रन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक: । न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत ॥   इस श्ल

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता ज्ञान

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

गीता ज्ञान

                                                                       

गीता ज्ञान

                                                                यद्यदाचर

गीता ज्ञान

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता ज्ञान

आज जो कुछ आप का है, पहले किसी और का था और भविष्य में किसी और का हो जाएगा। परिवर्तन संसार का नियम है

गीता ज्ञान

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चा

गीता ज्ञान

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्

गीता ज्ञान

                                                                      

गीता ज्ञान

नैनं छिद्रन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक: । न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत ॥ (द्वितीय अध्

गीता ज्ञान

                                                                    नियत

गीता ज्ञान

खुद का आकलन - 'आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो. अनुशासित रह

गीता ज्ञान

                                                                कर्मेन्द

गीता ज्ञान

केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो। जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिं

गीता ज्ञान

                                                             न हि कश्चित्

गीता ज्ञान

                                                              निश्चयं श्र

गीता ज्ञान

                                                    लोकेऽस्मिन्द्विविधा निष

गीता ज्ञान

                                                            एवं परम्पराप्र

गीता ज्ञान

                                                      ज्यायसी चेत्कर्मणस्ते

गीता ज्ञान

आत्मा अजर अमर है। जो लोग इस आत्मा को मारने वाला या मरने वाला मानते हैं, वे दोनों ही नासमझ हैं आत्म

गीता ज्ञान

'क्रोध से भ्रम पैदा होता है। भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है। जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्

गीता ज्ञान

केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो। जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिं

गीता ज्ञान

जन्म के समय में आप क्या लाए थे जो अब खो दिया है? आप ने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया है? जब आप पैदा

गीता ज्ञान

इन्द्रियां, मन और बुद्धि काम के निवास स्थान कहे जाते हैं। यह काम इन्द्रियां, मन और बुद्धि को अपन

गीता सार

जो आशा रहित है, जिसके मन और इन्द्रियां वश में हैं, जिसने सब प्रकार के स्वामित्व का परित्याग कर दि

गीता सार

अल्बर्ट आइंस्टीन ने एक बार कहा था, ''जब भी मैं भगवद्गीता पढ़ता हूं तो पता चलता है कि भगवान ने किस प

गीता सार

आत्मा अजन्म है और कभी नहीं मरता है। आत्मा मरने के बाद भी हमेशा के लिए रहता है। तो क्यों व्यर्थ की

गीता सार

आप एक अविनाशी आत्मा हैं और एक मृत्युमय शरीर नहीं है। शरीर पांच तत्वों से बना है। पृथ्वी, अग्नि, ज

गीता सार

अतीत में जो कुछ भी हुआ, वह अच्छे के लिए हुआ, जो कुछ हो रहा है, अच्छा हो रहा है, जो भविष्य में होगा, अच

गीता सार महात्मा गांधी के विचार

जब भी मैं भ्रम की स्थिति में रहता हूं, जब भी मुझे निराशा का अनुभव होता है और मुझे लगता है कि कहीं स

गीता सार

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता सार

जैसे इसी जन्म में जीवात्मा बाल, युवा और वृद्ध शरीर को प्राप्त करती है। वैसे ही जीवात्मा मरने के

गीता सार

तुम्हारे पास अपना क्या है जिसे तुम खो दोगे? तुम क्या साथ लाए थे जिसका तुम्हें खोने का डर है? तुमने

गीता सार

न मे पार्थास्ति कर्तव्यं त्रिषु लोकेषु किंचन । नानवाप्तमवाप्तव्यं वर्त एव च कर्मणि ॥ भावार

गीता सार

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप

गीता सार

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो क्षण में तुम करोड़ों के स्वामी बन जा

गीता सार

दुःख से जिसका मन परेशान नहीं होता, खुख की जिसको आकांक्षा नहीं होती तथा जिसके मन में राग, भय और क्र

गीता सार

हे कुंतीनंदन! संयम का प्रयत्न करते हुए ज्ञानी मनुष्य के मन को भी चंचल इन्द्रियां बलपूर्वक हर ले

गीता सार

आप एक अविनाशी आत्मा हैं और एक मृत्युमय शरीर नहीं है। शरीर पांच तत्वों से बना है- पृथ्वी, अग्नि, जल

गीता सार

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता सार

क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सक्ता है? अात्मा ना पैदा होत

गीता सार

केवल कर्म करना ही मनुष्य के वश में है। कर्मफल नहीं। इसलिए तुम कर्मफल की आशक्ति में ना फंसो तथा अ

गीता सार

न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से मिलकर बना है और इसी में म

गीता सार

आत्मा अजन्म है और कभी नहीं मरता है। आत्मा मरने के बाद भी हमेशा के लिए रहता है। तो क्यों व्यर्थ की

गीता सार

जन्म के समय में आप क्या लाए थे जो अब खो दिया है? आप ने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया है? जब आप पैदा

गीता सार

केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो। जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिं

गीता सार

केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो। जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिं

गीता सार

'मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है। जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।'  

गीता सार

'क्रोध से भ्रम पैदा होता है। भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है। जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्

गीता सार

तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो ना

गीता सार

खाली हाथ आये और खाली हाथ वापस चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इ

गीता सार

हे अर्जुन! सभी प्राणी जन्म से पहले अप्रकट थे और मृत्यु के बाद फिर अप्रकट हो जायेंगे। केवल जन्म औ

गीता सार

जैसे इसी जन्म में जीवात्मा बाल, युवा और वृद्ध शरीर को प्राप्त करती है। वैसे ही जीवात्मा मरने के

गीता सार

सभी प्राणी मेरे लिए बराबर हैं, न मेरा कोई अप्रिय है और न प्रिय; परन्तु जो श्रद्धा और प्रेम से मेरी

गीता सार

जन्म लेने वाले की मृत्यु निश्चित है और मरने वाले का जम्न निश्चित है। अतः जो अटल है उसके लिए तुम्

गीता सार

परिवर्तन संसास का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता सार

हे अर्जुन विषम परिस्थितियों में कायरता को प्राप्त करना, श्रेष्ठ मनुष्यों के आचरण के विपरीत है।

गीता सार

हे अर्जुन, तुम ज्ञानियों की तरह बात करते हो, लेकिन जिनके लिए शोक नहीं करना चाहिए, उनके लिए शोक करत

गीता सार

सभी प्राणी मेरे लिए बराबर हैं, न मेरा कोई अप्रिय है और न प्रिय; परन्तु जो श्रद्धा और प्रेम से मेरी

गीता सार

जो मनुष्य सब कामनाओं को त्यागकर, इच्छा रहित, ममता रहित तथा अहंकार रहित होकर विचरण करता है, वही शा

गीता सार

जब भी मैं भ्रम की स्थिति में रहता हूं, जब भी मुझे निराशा का अनुभव होता है और मुझे लगता है कि कहीं स

गीता सार

जो आशा रहित है, जिसके मन और इन्द्रियां वश में हैं, जिसके सब प्रकार के स्वामित्व का परित्याग कर दि

गीता सार

सुख दुःख, लाभ-हानि और जीत-हार की चिंता ना करके मनुष्य को अपनी शक्ति के अनुसार कर्तव्य-कर्म करना च

गीता सार

दुःख से जिसका मन परेशान नहीं होता, सुख की जीसको आकांशा नहीं होती तथा जिसके मन में राग, भय और क्रोध

गीता सार

हे अर्जुन! सभी प्राणी जन्म से पहले अप्रकट थे और मृत्यु के बाद फिर अप्रकट हो जायेंगे। केवल जन्म औ

गीता सार

तुम अपने आप को भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्त

गीता सार

इन्द्रियां, मन और बुद्धि काम के निवास स्थान कहे जाते हैं। यह काम इन्द्रियां, मन और बुद्धि को अपन

गीता सार

हे अर्जुन, तुम ज्ञानियों की तरह बात करते हो, लेकिन जिनके लिए शोक नहीं करना चाहिए, उनके लिए शोक करत

गीता सार

शान्ति से सभी दुःखों का अंत हो जाते है और शांतचित मनुष्य की बुद्धि शीघ्र ही स्थिर होकर परमात्मा

गीता सार

केवल कर्म करना ही मनुष्य के वश में है, कर्मफल नहीं। इसलिए तुम कर्मफल की आशक्ति में ना फंसो तथा अप

गीता सार

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्त

गीता सार

दुःख से जिसका मन परेशान नहीं होता, सुख की जिसको आकांक्षा नहीं होती तथा जिसके मन में राग, भग और क्र

गीता सार

खाली हाथ आये और खाली हाथ वापस चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इ

गीता सार

केवल कर्म करना ही मनुष्य के वश में है, कर्मफल नहीं। इसलिए तुम कर्मफल की आशक्ति में ना फंसो तथा अप

गीता सार

तुम्हारा क्या गया जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश

गीता सार

हे कुंतीनंदन! संयम का प्रयत्न करते हुए ज्ञानी मनुष्य के मन को भी चंचल इन्द्रियां बलपूर्वक हर ले

गीता सार

यदि कोई बड़े से बड़ा दुराचारी भी अनन्य भक्ति भाव से मुझे भजता है, तो उसे भी साधु ही मानना चाहिए और

गीता सार

यदि कोई बड़े से बड़ा दुराचारी भी अनन्य भक्ति भाव से मुझे भजता है, तो उसे भी साधु ही मानना चाहिए और

गीता सार

जन्म लेने वाले की मृत्यु निश्चित है और मरने वाले का जन्म निश्चित है। अतः जो अटल है उसके लिए तुम्

गीता सार

हे अर्जुन, मेरे जन्म और कर्म दिव्य हैं, इसे जो मनुष्य भली भांति जान लेता है, उसका मरने के बाद पुनर

गीता सार

जैसे इसी जन्म में जीवात्मा बाल, य़ुवा और वृद्ध शरीर को प्राप्त करती है। वैसे ही जीवात्मा मरने के

गीता सार

यह बड़े ही शोक की बात है कि हम लोग बड़ा भारी पाप करने का निश्चय कर बैठते हैं तथा राज्य और सुख के लो

गीता सार

न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से मिलकर बना है और इसी में म

गीता सार

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स

गीता सार

तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्त

गीता सार

जैसे इसी जन्म में जीवात्मा बाल, युवा और वृद्ध शरीर को प्राप्त करती है। वैसे ही जीवात्मा मरने के

गीता सार

हे अर्जुन, तुम ज्ञानियों की तरह बात करते हो, लेकिन जिनके लिए शोक नहीं करना चाहिए, उनके लिए शोक करत

गीता सार

हे अर्जुन विषम परिस्थियों में कायरता को प्राप्त करना, श्रेष्ठ मनुष्यों के आचरण के विपरीत है। न

copyright © 2017 All Right Reserved.
Design & Develop by - itinfoclub