आज का गीता श्लोक

Home / आज का गीता श्लोक
no-img

written by : सारथी

on: 12-03-2018-09:42:18

                                                                                यद्यदाचरति श्रेष्ठस्तत्तदेवेतरो जनः ।
                                                                                स यत्प्रमाणं कुरुते लोकस्तदनुवर्तते ॥


भावार्थ :
श्रेष्ठ पुरुष जो-जो आचरण करता है, अन्य पुरुष भी वैसा-वैसा ही आचरण करते हैं। वह जो कुछ प्रमाण कर देता है, समस्त मनुष्य-समुदाय उसी के अनुसार बरतने लग जाता है (यहाँ क्रिया में एकवचन है, परन्तु 'लोक' शब्द समुदायवाचक होने से भाषा में बहुवचन की क्रिया लिखी गई है।)॥

no coimments

copyright © 2017 All Right Reserved.
Design & Develop by - itinfoclub